पूर्वी दिल्ली के डीसीपी जसमीत सिंह ने पेश की मानवता की मिसाल

संवाददाता : रवि डालमिया/फोटो : जगजीत सिंह


दिल्ली  28,मार्च, 2020



पूर्वी दिल्ली, कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद पूरे देश में दिहाड़ी मजदूर और कामकागों और छोटी कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. हालात ये हैं व्यक्ति के घर से निकलने पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है। इस दौरान पुलिस विभाग को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसी दौरान पूर्वी दिल्ली के डीसीपी जसमीत सिंह ने मानवता की मिसाल पेश की है.



डीसीपी जसमीत सिंह को जब पता चला की संख्या में लोग जिसमें एक विकलांग बच्चा अपने मां-बाप और बहन के साथ शाहजहांपुर जाने के लिए गाजीपुर बॉर्डर पहुंचा है मौके पर पहुंचे डीसीपी जसमीत सिंह ने परिवार से बात की और समझाया I



प्राप्त सूचना के अनुसार इस परिवार को जानकारी मिली थी कि बस चल रही हैं यह बच्चा विकलांग था और उसकी टांग में टीबी हो गई थी यह देखते हुए पूर्वी दिल्ली के डीसीपी जसमीत सिंह ने उस बच्चे को और उसके परिवार को समझा बुझा कर वापस सीलमपुर उनके घर पुलिस के गाड़ी से छुड़वाया गया 



  वहीं जब पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे तो वहां लोगों में काफी गुस्सा था कि उनका कहना था कि हमें अपने घर जाना है पर हम काफी दिन से भूखे हैं हमारे बच्चे  काफी दिनों से बच्चे को दूध नहीं पिला सकते है क्यों कि खाने पीने के सामान खरीदने के लिए हमारे पास पैसे तक नहीं है वहीं मौजूद पूर्वी दिल्ली के डीसीपी जसमीत सिंह ने वहां तुरंत दूध की व्यवस्था व खाने-पीने का भी व्यवस्था की गई और वहां आसपास के लोगों ने भी मौजूद लोगों कि मदद की और उनको खाना खिलाया और उनको समझाया कि आप अपने घर वापस चले जाइए


Popular posts