पंजाबी बाग के महाराजा अग्रसेन अस्पताल को क्यों किया गया सील : क्या था पूरा मामला?

  दिल्ली के पंजाबी बाग थाना पुलिस ने कोरोना वायरस के चलते हुई मौत के बाद शव परिजनों को सौंप दिया था। परिजन शव को अंतिम संस्कार के लिए सोनीपत ले गए तो वहां उसके संपर्क में आने से कई लोग संक्रमित हो गए। अस्पताल की इस लापरवाही के चलते पुलिस ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ महामारी एक्ट और आईपीसी एक्ट की कई धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल पुलिस ने अस्पताल प्रशासन को जांच में शामिल होने के लिए नोटिस दिया है।


बड़ी खबर: DHFL के प्रमोटर कपिल वधावन को हिरासत में लिया गया


 


पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले में लापरवाही सामने आने के बाद स्थानीय एसडीएम ने जांच के आदेश दिए थे। जांच के बाद अस्पताल प्रशासन की लापरवाही सामने आई थी। पुलिस की जांच रिपोर्ट पढ़ने के बाद स्थानीय एसडीएम ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश दिए। पुलिस ने एसडीएम के आदेश के बाद केस दर्ज कर जांच को शुरू कर दी है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अस्पताल प्रशासन को जांच में शामिल होने का नोटिस भेजा गया है।


 


हरियाणा पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे। कोरोना जांच पॉजिटिव आने के बाद उन्हें पंजाबी बाग के महाराजा अग्रसेन अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन ने मामले में स्थानीय प्रशासन को सूचना दिए बगैर ही शव परिजनों को सौंप दिया था। अब हरियाणा में परिजन भी संक्रमित पाए गए हैं।


दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़कर हुए 720. दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को कुल 51 कोविड-19 के मामले रिपोर्ट हुए। इसके साथ ही कोरोना संक्रमितों की संख्या 700 को पार कर चुकी है और अब यहां कुल 720 मरीज हो गए हैं। वहीं आज तीन लोगों की मौत हुई है। दिल्ली में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 12 हो गई है। दिल्ली सरकार की हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, आज आए मामलों में 35 लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री रही है जबकि चार मामले तबलीगी जमात से जुड़े हैं। वहीं आज पांच लोग इलाज के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए हैं।


 


ताजा खबरों के लिए जुड़े रहें Time For News हिन्दी के साथ



Popular posts